PM मोदी पर भड़के संजय सिंह, बोले- 130 करोड़ लोगों की संपत्ति बेचने वाला सपूत नहीं ‘कपूत’ है

Advertisements

संसद के बजट सत्र में मोदी सरकार चौतरफा घिरती चली जा रही है। किसान आंदोलन और सार्वजनिक संपत्तियों के निजीकरण को लेकर विपक्ष लगातार हमलावर होता जा रहा है।

आज राज्यसभा में कार्रवाई के दौरान आम आदमी पार्टी के सांसद संजय सिंह ने पीएम मोदी पर जमकर जुबानी हमला बोला । उन्होंने कहा कि जो 130 करोड़ लोगों की संपत्ति को बेचता है वो सपूत नहीं कपूत है।

उन्होंने अपने भाषण का वीडियो फेसबुक पर शेयर करते हुए लिखा-“ये बजट देश को नीलाम करने का बजट है. इस देश की सम्पत्तियाँ किसी की निजी सम्पत्ति नहीं है . यह देश के 130 करोड़ लोगों की संपती है . ये RAIL SAIL GAIL LIC KHEL AIRPORT किसी के बाप की संपती नहीं है बल्कि इस देश के 130 करोड़ लोगों की सम्पत्ति है.

ये भाजपाई इस देश की संपतियों को बेच रहे हैं यह इस देश के कपूत हैं , ये लोग इस देश के सपूतों के द्वारा खड़ी की गयी इन सरकारी सम्पत्तियों को अपने दोस्तों के हाथ में दे रहे है. देश को नीलाम कर रहे हैं ।

हमारे देश के प्रधानमंत्री ने सदन के अंदर देश के किसानों का मजाक उड़ाया है , ये किसान 75 दिनों से आंदोलन पर हैं , इन किसानों को आंदोलनजीवी बोलकर प्रधानमंत्री मोदी जी ने इनका मज़ाक़ उड़ाया है, उन्होंने किसानों का ही नहीं बल्कि देश की आज़ादी में शामिल सभी क्रांतिकारी महापुरुषों का मज़ाक़ उड़ाया है।

राष्ट्रपिता महात्मा गांधी का मज़ाक़ उड़ाया है , सरदार बल्लभ भाई पटेल, बाबा साहब अम्बेडकर, शहीद भगत सिंह, शहीद अशफ़ाक उल्ला खां, डॉ राम मनोहर लोहिया समेत उन सभी लोगों का मज़ाक़ उड़ाया है जिन्होंने इस देश के लिए खून पसीना एक करके आंदोलन करके हमें आजादी दिलाई।

जिनके आंदोलन के बदौलत आज देश के प्रधानमंत्री जी इस सदन के अंदर बोल पा रहे हैं। आंदोलनकारियों का मज़ाक़ उड़ाकर प्रधानमंत्री जी ने उनका मज़ाक़ उड़ाया जिन्होंने हमें आज़ादी दिलाई संविधान दिया, जिन्होंने हमें लोकतंत्र दिया जिनकी बदौलत हम आज इस संसद के अंदर चर्चा कर रहे हैं।

हमें फक्र है उन आंदोलनकारियों पर उन स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों पर जो अंग्रेजो के दलाल नहीं थे जो अंग्रेजों से माफी नहीं मानते थे ।

जिस विचारधारा के लोग अंग्रेजों की गुलामी करते थे उनसे माफी मांगते थे वह आज आंदोलनकारियों का मजाक उड़ा रहे हैं । 170 लोग अपने खेतों के लिए मर गए उन्होंने अपनी शहादत दे दी और देश के प्रधानमंत्री संसद में उनका मजाक उड़ा रहे हैं यह बेहद शर्मनाक है ।

ये भाजपाइ लोग चौधरी चरण सिंह का नाम ले रहे हैं चौधरी चरण सिंह के वंशज वहां आंदोलन पर बैठे हैं और उनका मजाक उड़ा रहे हो , यह कैसा व्यवहार है । जो लोग आंदोलन पर बैठे हैं वह भाषणजीवी नहीं हैं जुमलाजीवी नहीं हैं वह आंदोलनजीवी हैं उनका मजाक देश के लोकतंन्त्र का मजाक है ।

मुझे समझ नही आता है, मैं कहता हूं अंग्रेजों को दलाल बुरा इन भाजपाइयों को लग जाता है, मैं कहता हूं अंग्रेजों से माफी मांगने वाला बुरा इन भाजपाइयों को लग जाता है !

माननीय सदस्य भूपेंद्र यादव जी ने चौधरी चरण सिंह जी का नाम लिया उन्हें याद दिला दूं कि डॉ राम मनोहर लोहिया चौधरी चरण सिंह जी सब लोग आंदोलन की पैदाइश है आंदोलन का मजाक उड़ा कर आंदोलनजीवी बोल कर डॉ राम मनोहर लोहिया और चौधरी चरण सिंह जी का मजाक उड़ाया गया हैं।

अगर देश के प्रधानमंत्री जी आज संसद में आए हैं तो देश के महान स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों और शहीदों के आंदोलन की मेहनत के बाद आये हैं ।

ये भाजपाई संसद से बाहर किसान को बोलने नहीं देते हैं और संसद के अंदर संसद के सदस्य को नहीं बोलने देते हैं यह सदन का अपमान है ।

ये भाजपाई हम लोगों को बच्चे समझते हैं हम लोग आंदोलन की पैदाइश है लाठियां खाई हैं जेल गए हैं सालों से देश के लिए राजनीति कर रहे हैं इनके दादागिरी से हम डरने वाले नही है , हमें दादागिरी ना दिखाओं ।

इंकलाब – जिंदाबाद”

Advertisements

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.