फांसी की सजा पाने वाली शबनम ने अपने बेटे से जो कहा, जानकर निकल आएंगे आपके आंसू

Advertisements

पहली बार किसी महिला को दी जाएगी फांसी, जानिए लव कनेक्शन जिसमें 7 लोगों को कुल्हाड़ी से काट डाला था

बता दे की कुछ दिन पहले ही उस्मान सैफी ताज को जेल में बंद उसकी मां शबनम से मिलाने के लिए उसे रामपुर जेल ले गये थे. उस्मान सैफी के मुताबिक जब शबनम ने अपने बेटे को देखा तो वो फफक कर रोने लगी और काफी देर तक अपने बेटे ताज से लिपटी रही. साथ ही वह अपने बेटे को बार बार चुम रही थी. शबनम बार बार अपने बेटे से कह रही थी कि पढ़ लिख कर अच्छा इंसान बनना, मैं बुरी मां हूं मुझे कभी याद मत करना.

रिपोर्ट के मुताबिक, बीते 21 फरवरी को शबनम से उसके बेटे ताज और उसके संरक्षक उस्‍मान से मुलाकात की थी. मुलाकात के दौरान शबनम ने बेटे को टॉफी और कुछ रुपये भी दिए. शबनम के बेटे को गोद लेने वाले उस्‍मान सैफी ने कहा कि ताज को गोद लेने के लिए उन्हें काफी जद्दोजहद करनी पड़ी थी, इसके लिए जेल में उन्होंने शबनम से 24 बार मुलाकात की थी. शबनम और उस्मान सैफी एक ही कॉलेज में पढ़ते थे. शबनम उस्मान से दो साल सीनियर थी. उस्मान को काफी कोशिशों के बाद बच्चे ताज की परवरिश की जिम्‍मेदारी म‍िल पाई.

शबनम और सलीम के केस में 100 तारीखों तक बहस हुई थी. इसमें 29 गवाहों ने शबनम सलीम के खिलाफ गवाह दिया है. इस मामले की सुनवाई 27 महीनों तक चली थी. इसके बाद 14 जुलाई 2010 शबनम और सलीम दोषी करार दिए गए . 15 जुलाई 2010 को दोनों को सुनाई फांसी की सजा गई. इस केस में गवाहों से 649 सवाल किये गये थे. 160 पेज में सजा सुनाई गयी है. शबनम सलीम के केस की सुनवाई तीन जिला जजों के कार्यकाल में पूरी हुई. कहा जाता है कि जिला जज एसएए हुसैनी ने 29 सेंकेड में फांसी की सजा सुनाई थी.

Advertisements

Be the first to comment

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.